वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा कैसे होना चाहिए ?

0
vastu ke anusar darwaja
vastu ke anusar darwaja

आज हम जानते है वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा कैसा होना चाहिए ? जिससे आप बना सकते हैं एक बेहतर वास्तु शास्त्र के अनुसार अपने घर को | मुख्य दरवाजा यदि वास्तु के अनुसार हो तो घर में कभी पैसे की कमी नहीं आती है |

घर में पैसे की कमी आने की वजह से  हमें बहुत सारी परेशानी होती है, पैसों की कमी की वजह से घर में सुख शांति का वास नहीं रहता है | घर में सुख शांति ना होने की वजह से कभी लक्ष्मी का वास घर में नहीं रहता है | इसलिए हमें घर बनाते समय मुख्य द्वार कैसा होना चाहिए और घर के दरवाजे कैसे होने चाहिए यह बनाते समय बहुत सोच समझकर बनाना चाहिए |

वास्तुशास्त्र में  घर के दरवाजों की स्थिति लिखी हुई है ,  यदि आप वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के दरवाजे रखते हैं  तो आपके घर में कभी लक्ष्मी नाराज नहीं होती है | हमेशा आपके घर में खुशहाली बने रहने के लिए अब हम जानते हैं कैसे हमारे घर के दरवाजे होने चाहिए ?

मुख्य दरवाजा ही नहीं बाकी सभी चीज़े वास्तु के अनुसार होती है तो घर में लक्ष्मी कभी कम नहीं होती है , बल्कि बढती है |

वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा कैसा होना चाहिए ?

वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा
वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा

जब आप घर बनाना शुरू करते हैं तब आपको घर का एक मैप मिलता है  जिसमें आपको घर में किस स्थान पर क्या है इस बारे में पता चलता है |  इस मैंप को आर्किटेक्ट आपको बना कर देता है, इसी समय पर आपको आर्किटेक्ट को किस दिशा में  घर के दरवाजे होने चाहिए इस बारे में बताना है |

किस कोने में कैसा  दरवाजा होना चाहिए यह आप वास्तु शास्त्र एक्सपर्ट से भी पूछ कर जान सकते हो |  लेकिन आपको किसी वास्तु शास्त्र एक्सपर्ट की जरूरत नहीं पड़ेगी यदि आप यह लेख अच्छे से   पढ़ेंगे | इसीलिए अब हम जानते है वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा सही जगह पर रखने से आपके क्या फायदे मिलते है , जानते है –

मुख्य दरवाजा लाए आपके वास्तु में पॉजिटिव एनर्जी :

पॉजिटिव एनर्जी
पॉजिटिव एनर्जी

घर में मुख्य दरवाजे सबसे महत्वपूर्ण होता है  घर में आने वाली सभी चीजें इसी दरवाजे से आती है इसीलिए यह दरवाजे का वास्तु सही होना ही चाहिए | घर में आने वाली पॉजिटिव एनर्जी और नेगेटिव एनर्जी दरवाजे से आती है |  इसीलिए आपको वास्तु शास्त्र के अनुसार ही इसी मुख्य दरवाजे को बनाना है |

मुख्य दरवाजा जिसे प्रवेश द्वार भी कहते हैं यह वही जगह होती है, जिस जगह से आप के वास्तु में पॉजिटिव एनर्जी या पॉजिटिव वाइब्स आती है|

किस तरह से खुले आपके वास्तु का मुख्य द्वार :

वास्तु का मुख्य द्वार
वास्तु का मुख्य द्वार

वास्तु के अनुसार आप का मुख्य द्वार खोलते या बंद करते वक्त कही लगना नहीं चाहिए, या किसी तरह की परेशानी अथवा किसी तरह का आवाज़ दरवाजा बंद और खोलते वक्त नहीं आना चाहिए  इस बात का ख्याल रखना बहुत जरूरी होता है | क्योंकि घर में दरवाजा का खुलते और बंद होते समय आवाज हो रहा है तो घर में झगड़े होने चालू हो जाते हैं |

हो सके तो आप अपने घर के दरवाजे के लॉक में  तेल लगाकर डाल सकते हैं जिससे कि इसे खोते और बंद करते समय थोड़ा सा भी आवाज नहीं आएगा | दरवाजे के मुख्य बाजू पर रबर जैसा चिपका सकते हैं, जिसकी वजह से यह जोर से बंद होने पर भी थोड़ा सा भी आवाज नहीं आएगा |

वास्तु के अनुसार मुख्य दरवाजा ठीक नही होगा तो रूठ सकती है लक्ष्मी :

मुख्य दरवाजा ठीक नही होगा तो रूठ सकती है लक्ष्मी
मुख्य दरवाजा ठीक नही होगा तो रूठ सकती है लक्ष्मी

लक्ष्मी माता जिसे धन की माता कहते हैं वह आपकी वास्तु के मुख्य द्वार से ही पधारती है इसलिए आप का मुख्य द्वार वास्तु के अनुसार रखें |

घर में लक्ष्मी जी को खुशी-खुशी रखने के लिए आप अपना घर का दरवाजा वास्तु के अनुसार ही रखना है |  इसे बनाते समय आपको अच्छे प्रकार के लकड़ी का इस्तेमाल करना है | हो सके तो आपको अपने मुख्य दरवाजे को अच्छे लकड़ी से ही बनाएं |

मुख्य द्वार पर कांटे के पौधे :

वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा पर कांटे के पौधे
वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा पर कांटे के पौधे

वास्तु के अनुसार मुख्य दरवाजे के सामने कभी भी कांटों के पौधे ना लगाएं इससे वास्तु में कई तरह की परेशानियां उत्पन्न हो सकती है |

कांटे वाले पौधों में निगेटिव एनर्जी होती है और इसी वजह से आपके घर में यदि आपके दरवाजे के आसपास कोई कांटे  वाले पौधे हैं तो आपको इसे तुरंत हटाना चाहिए वरना आपके घर में आने वाली लक्ष्मी रूठ सकती है |

मुख्य दरवाजे पर फूलों के पौधे :

वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा पर फूलों के पौधे
वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा पर फूलों के पौधे

वास्तु के मुख्य दरवाजे पर आप फूलों के पौधे लगा सकते हैं, इससे आने-जाने वाले महक से मेहमानों को प्रसन्न लगता है, जिससे आपके वास्तु का वातावरण सही और अच्छा रहता है |

घर में अच्छी महक आने की वजह से लक्ष्मी प्रसन्न होती है और घर में रहने वाले लोग भी प्रसन्न रहते हैं | लेकिन आपको फूलों के पौधे लगाने से पहले इस बात का ख्याल रखना है कि उस पेड़ पर किसी प्रकार के  काटे नहीं होना चाहिए | क्योंकि कांटे होने की वजह से आपके घर में नेगेटिव एनर्जी का वास होने लगेगा |

मुख्य दरवाजे के सामने कूड़ेदान :

मुख्य दरवाजे के सामने कूड़ेदान
मुख्य दरवाजे के सामने कूड़ेदान

वास्तु के अनुसार कभी भी आपके मुख्य दरवाजे के सामने कूड़ेदान नहीं रखना चाहिए, क्योंकि कूड़ेदान से उत्पन्न होने वाली बदबू नेगेटिव एनर्जी उत्पन्न करती है, जिससे आपके वास्तु में नेगेटिव एनर्जी आ जाएगी |

गलती से भी आपके घर में सामने कूड़ेदान को आपने रखा है तो आपको इसे तुरंत हटा देना है | शायद आपको पता ही होगा जहां कूड़ा कचरा होता है वह इंसान भी नहीं जाते तो भगवान क्यों रहेंगे उस घर में | मुख्य दरवाजे के  यहां पूनम को बिल्कुल नहीं रखना है |

मुख्य दरवाजे के सामने आईना :

मुख्य दरवाजे के सामने आईना
वास्तु के अनुसार घर का दरवाजा के सामने आईना

मुख्य दरवाजे के ठीक सामने कभी आईना नहीं रखना चाहिए क्योंकि इससे आपके वास्तु मे आने वाली पॉज़िटिव एनर्जी रिफ्लेक्ट होकर वापस चली जाती है और आपकी वास्तु में वास्तुदोष उत्पन्न करने का काम भी करती है |

ऐसा कहा जाता है कि आईने के सामने वाले दिशा की ओर नेगेटिव एनर्जी वास करती है,  इसीलिए हो सके तो आपको मुख्य दरवाजे के सामने कभी आईना नहीं रखना है | आईना को आप दरवाजे के ऑपोजिट वाले दिशा में रख सकते हैं इससे आपके घर में लक्ष्मी बसती रहेगी |

यह कि घर में लक्ष्मी का वास बनाए रखने के लिए अपने घर का मुख्य द्वार कैसे रखें और किस दिशा में रखें इसकी जानकारी |  आपके मन में घर में दरवाजे की स्थिति के बारे में किसी भी प्रकार का सवाल है तो आप हमें नीचे कमेंट में लिख कर पूछ सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here