खुद के कॉन्फिडेंस को कैसे बढ़ाएं? चलिए देखतें है

How to Increase Self Confidence

क्या आप जानना चाहते है की खुद के कॉन्फिडेंस को कैसे बढ़ाएं?

यह एक ऐसी बात है जो हर कोई अपने बारे मे सोचता है। अपने अंदर के कॉन्फिडेंस को अगर आप को बढ़ाना है। तो सबसे पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना जरुरी है। जैसे कि आप कोई काम करते हो या कोई काम करने चाहते हो। तो आपको सबसे पहिले उस काम के प्रति अपनी इच्छा देखनी है। जब आप अपने काम के प्रति इच्छा देखते हो तो आपको पता चल जाता है। अपने खुद के कॉन्फिडेंस को बढ़ाने के लिए आपके मन की इच्छा सबसे बड़ी बात होती है। जब आप उसके मुताबिक काम करते हो तो आपको कभी निराश नही होना होता है।

कुछ बाते है जो आपके कॉन्फिडेंस को बढ़ाने मैं मदत कर सकते है।

      • अपने आप से सवाल पूछना
      • खुद की बाते समझना
      • अछी बातें ध्यान में रखना
      • जो पसंद है उसके बारे मे सोचना

ऐसी कई सारी बाते है जो आपके खुद के कॉन्फिडेंस को बढ़ाने मैं मदत करते है। पर यह 4 ऐसे बाते है जो आपको आपके असली कॉन्फिडेंस से मिला सकते है।

अपने आप से सवाल पूछना

यह एक ऐसा काम है जो, आपकी खुद से ही करना है। कॉन्फिडेंस क्या होता है, कॉन्फिडेंस माने के क्या है, कॉन्फिडेंस कैसे लाया जाता है। यह सारे सवाल खुद से ही पूछना है। जब आप एक सवाल खुद से पूछने लगते हो तो आपकी कुछ बाते सामने आती है। कॉन्फिडेंस आपके काम पर होता है। कॉन्फिडेंस आपके दिमाख की सोच से पैदा होता है। कॉन्फिडेंस के सामने आपके मन की बाते होती है।

खुद के कॉन्फिडेंस को कैसे बढ़ाएं?
How to Increase Self Confidence

यह सारे कुछ सवाल है जो आपके मन मे चलते है। जब आप इन सारे सवालो का अछेसे उत्तर ढूंढ लेते हो तो आप कॉन्फिडेंस ला सकते हो।

आपको कुछ से यह सारे सवाल इस लिए पूछने है कि, आप खुद मैं कॉन्फिडेंस कैसे पैदा कर सके। कॉन्फिडेंस लाना मतलब सही मैं बड़ी बात है। आपको उसके लिये खुद पर भरोसा रखना जरूरी है। जब आप खुद पर भरोसा रख सकते हो तो अपने आप ही कॉन्फिडेंस आपके हातो मैं आता है।

कॉन्फिडेंस लाने के लिए क्या किया जाए यह देखना भी जरूरी है। कॉन्फिडेंस लाने के लिए आपको आपकी खुद की बाते समझना जरूरी है।

खुद की बाते समझना

आप खुद की बाते समझना च्याहते हो तो, आपको खुद ही उसके बारे मे निजी तौर पर विचार करना हैं। जैसे कोई काम, अगर आपको पढ़ाई करनी है, या कोई काम करना है, या किसी मंजिल को पाना है तो सबसे पहिले आपको उसके लायक समझना है। खुद को कुछ इस कदर लायक बनाना है कि उस कॉन्फिडेंस से ही आप वह काम कर सकते हो।

खुद के कॉन्फिडेंस को कैसे बढ़ाएं?
How to Increase Self Confidence

जब आप खुद को किसी काम के लायक बना सकते हो तो उसका मतलब यही होता है कि, आप खुद की बाते समझने लगे हो। ऐसा सिर्फ आपके खुद पर कॉन्फिडेंस होने के कारण होता है। और खुद को कुछ बड़ा साबित करने का मौका मिल जाता है।

जब आप खुद के कॉन्फिडेंस को बढ़ाते हो तो अपने आप मैं ही कई सारे मोके आपका इंतजार करने लगते है। अपने अंदर के हुनर को पहचानने के ये खुद का कॉन्फिडेंस बढ़ाना जरूरी होता है। जब खुद का कॉन्फिडेंस बढ जाता है तो आपके उस के बारे मे सोचना अच्छा लगता है। जब आप सोचने लगते हो तो आपको खुद की बाते समझना मुश्किल नही होता है।

अच्छी बातें ध्यान में रखना

जब आप अपने अंदर के कॉन्फिडेंस को बढ़ाने के बारे मे बात करते हो। तो सबसे पहिले आपसे हुई अच्छी बातों का ही आपको ध्यान रखना है। अच्छी बातें ही आपका मनोबल बढ़ाने मैं मदत करती है। जैसे ही आपका मनोबल बड़ जाता है। आप खुद को ही कॉन्फिडेंस से भरा हुवा महसूस करते हो।

खुद के कॉन्फिडेंस को कैसे बढ़ाएं?
How to Increase Self Confidence

अच्छी बातें ही आपके विचार मैं रहना जरूरी है। बुरी बातें मनुष्य को दुःख देने का कार्य करती है। पर अच्छी बातें खुद मैं ही अच्छी होती है। अच्छी बातों का स्मरण करना जीवन मैं जरूरी होता है। अच्छी बातों से आपके चेहरे पर एक रोशनी सी फूल जाती है। जब आप उसे समझने लगते हो तो खुद का कॉन्फिडेंस कई गुना बढ़ जाता है। और इसी तरह से आप खुद के कॉन्फिडेंस को कई गुना ज्यादा बड़ा सकते हो।

जो पसंद है उसके बारे मैं सोचना

जैसे कि हमने अभी आपकी सुख इर दुःख का मेल बताया। वैसे ही पसंद ना पसंद का भी है। आप किसी काम के प्रति उत्साह नही होते हो। अगर आप वह काम करना भी च्याहते हो तो आपको उसमें रुचि नही होती है। और खुद का कॉन्फिडेंस खो देते हो।

खुद के कॉन्फिडेंस को कैसे बढ़ाएं?
How to Increase Self Confidence

 ऐसा अपने जीवन मे कभी न करे। जो आपकी पसंद है उसे अपने आप मैं ही श्रेष्ठ बना दे। अगर आप आपकी पसंद को श्रेष्ठ बनाए रखते हो तो आपका कॉन्फिडेंस आपके साथ हमेशा रहता है। हम आपके लिए यह सारी बाते किसी प्रमाण मैं कर रहे है। किसी की सोच अलग भी हो सकती है। पर दरसल यह आपकी सोच ही है जो आपके कॉन्फिडेंस को नीचे की ओर खींचता है और ऊपर की ओर ले जाती है। अपने पसंद के बारे मे कभी बुरा सोचना नही चाहिये। अगर आप ऐसा करते हो तो आपको आपका खुद का कॉन्फिडेंस हरा दे सकता है।

यह सारी बातें आपको आपके खुद के कॉन्फिडेंस से मिला सकती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *