घर का दरवाजा वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा होना चाहिए ? जानिए

0
घर का दरवाजा
घर का दरवाजा

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका  वेब रफ्तार में आज का हमारा विषय है वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का दरवाजा कैसे रखें ? 

घर बनाते समय अगर आप वास्तु शास्त्र के हिसाब से बनाओगे तो आपको आने वाले भविष्य में किसी भी प्रकार की परेशानियों का सामना करना नहीं पड़ेगा | आज के भागदौड़ भरी दुनिया में होता ऐसे हैं, कि लोग घर बनाना  शुरू कर देते हैं, लेकिन जगह की कमी के कारण और समय की पाबंदी के कारण वह जल्द से जल्द जल्दबाजी में आकर अपना घर किसी भी प्रकार से एडजस्टमेंट करके बना लेते हैं | तो उसी से होता यह है कि भविष्य में उनको बहुत सारे वास्तु दोष के संबंधी परेशानियों को झेलना पड़ता है |

आज के लोग तो घर बनाने से पहले जो पूजा करते हैं, उसको भी करना जरूरी नहीं समझते हैं उन्हें उस बारे में जानकारी ही नहीं है कि घर बनाने से पहले पूजा क्यों करते हैं तो आपको मैं पहले बता दें कि घर बनाने से पहले पूजा इसलिए करते हैं अगर उस जमीन पर किसी प्रकार की दुर्घटना या किसी प्रकार की पूरी शक्ति हो तो उसकी शांति करने के लिए हम लोग अपने इष्ट देव को प्रणाम करके उस जगह की पूजा कर लेते हैं |  जिसका परिणाम हमारे इष्ट देव हम पर और हमारे घर पर हमेशा आशीर्वाद बनाए होते हैं जिसके कारण हमें भविष्य में आने वाली किसी भी प्रकार की वास्तु दोष के संबंधी परेशानी नहीं झेलनी पड़ती है |

वास्तुशास्त्र में घर बनाते वक्त घर के हर एक चीज के बारे में पूरे तरीके से जानकारी दी है, जैसे कि घर का मुख्य द्वार कैसा होना चाहिए किस रंग का होना चाहिए किस दिशा में होना चाहिए घर में बेडरूम कहां होना चाहिए, किचन कहा होना चाहिए, देवालय कहा होना, हौल कहा चाहिए होना चाहिए |इन सारी बातों की जानकारी वास्तु शास्त्र में भी होती है लेकिन हम आज फिर घर का मुख्य द्वार कैसे होना चाहिए इसके बारे में जान लेंगे |

घर का मुख्य द्वार किस दिशा में होना चाहिए ?

घर का मुख्य द्वार
घर का मुख्य द्वार

दोस्तों घर का मुख्य द्वार हमारे वास्तु का महत्वपूर्ण प्रवेश द्वार होता है, वहीं से हर प्रकार की चीज आती है, फिर चाहे वह मेहमान हो या कोई अपना दुश्मन हो या किसी प्रकार की परेशानी हो |  अगर हमारे घर के मुख्य द्वार की दिशा सही रहे तो सारी परेशानियां अपने आप खत्म हो जाती है |

दोस्तों वैसे तू वास्तु शास्त्र में चारों दिशाओं में घर का मुख्य द्वार अच्छा माना गया है, लेकिन चारों दिशाओं में से अगर आपका घर का मुख्य प्रवेश द्वार पूर्व दिशा में रहेगा तो वह सबसे बेहतर होगा क्योंकि पूर्व से सूर्य निकलता है, और सुबह में सूर्य की आने वाली किरणें यह बहुत शुभ मानी जाती है | इसीलिए हमारे घर का मुख्य द्वार उगते हुए सूर्य की दिशा की ओर होना चाहिए या नहीं भविष्य में हमारी हमेशा  उन्नति होती रहती है | 

घर का मुख्य द्वार किस रंग का होना चाहिए ?

घर के मुख्य द्वार के रंग दिशा के अनुसार रखी गए मुख्य द्वार दक्षिण दिशा में रहे तो उसका रंग लाल होना चाहिए, अगर घर का मुख्य द्वार उत्तर दिशा में हो तो उसका रंग मोती के रंग के जैसा होना चाहिए , और दरवाजा अगर पश्चिम दिशा में हो तो उसका रंग पीला या हरा होना चाहिए , 

मुख्य द्वार का कलर
मुख्य द्वार का कलर

लेकिन हम बात करेंगे फिर पूरब दिशा की ओर होने वाले दरवाजे के बारे में  हमने आपको ऊपर आपको बताया कि घर का मुख्य द्वार पूर्व दिशा में होना चाहिए तो उसका रंग सफेद होता है | सफेद रंग योगा शांति का प्रतीक माना जाता है इसीलिए पूर्व दिशा में होने वाले  द्वार को सफेद रंग होता है |

घर का दरवाजा किस लकड़ी से बनाये ?

घर के मुख्य द्वार की दिशा और रंग बता चुके हैं अब बारी आती है घर का मुख्य द्वार किस लकड़ी से बनाया जाए ताकि वह शुभ होता है | तुम तो घर का द्वार बनाने के लिए दो लकड़ी आती है,  जोकि एक चंदन और दूसरी साग , चंदन की लकड़ी बहुत ज्यादा महंगी आती है, अगर आप चंदन की लकड़ी का द्वार बनाते हो तो वह बेहतर रहेगा नहीं तो ज्यादातर लोग साग के लकड़ी का मुख्य द्वार बनाते हैं, जो बहुत अधिक मात्रा में मजबूत होता है, और दिखने में शानदार दिखता है | 

घर में कितने मुख्य द्वार होने चाहिए ? 

दोस्तों घर में मुख्य द्वार केवल एक ही होना जरूरी है,  अगर दो मुख्य द्वार भी होते हैं तो ज्यादा चिंता करने की बात नहीं है लेकिन घर बनाते वक्त कभी भी घर का  एक ही मुख्य द्वार रखें | वह शुभ रहता है |

घर में अन्य दरवाजे कितने होने चाहिए ?

घर के अन्य दरवाजों की संख्या यह घर के आकार पर निर्भर होती है अगर आपका घर बहुत ही बड़ा है तो आपके घर में अन्य दरवाजों की संख्या बढ़ सकती है लेकिन आमतौर पर लोग ज्यादा बढ़ा घर बनाते नहीं चाहिए अक्सर 2BHK वाला घर ही लोग बनाते हैं तो उस घर में ज्यादा से ज्यादा 6 से 7 दरवाजे ही होना जरूरी है | दो दरवाजे बेडरूम के लिए दो दरवाजे टॉयलेट और बाथरूम के लिए और एक मुख्य द्वार और एक गैलरी के लिए |

घर का मुख्य द्वार किस दिशा में खुलना चाहिए ?

दोस्तों घर का मुख्य द्वार कभी भी घर के अंदर की ओर खुलना चाहिए | क्योंकि आने वाले मेहमानों का हमेशा स्वागत अंदर की ओर होता है, और उसी से आने वाली अच्छी शक्तियां भी अंदर की ओर आनी चाहिए इसीलिए घर का मुख्य द्वार अंदर की ओर भी खुले  इसका ध्यान रखें ? 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here