बुरे समय में कैसे कैसे सोचे ? जानिए कैसे बचे इस खतरनाक स्तिथि से

अपने बुरे समय मैं कैसे सोचे

दोस्तो आज हम आपसे बुरे समय में कैसे कैसे सोचना है ? इसके बारे मे बताने जा रहे है। हर कोई इंसान अपने बुरे समय मैं खुद को अकेला महसूस करता है। अपने आप को खुद की नजरों मैं गिरा देता है। खुद ही कुछ बातों का गलत विचार करने लगता है। और अपने आप ही बुरे समय को बुलावा देता है।

दोस्तों कुछ ऐसी बाते है जो आप अपने जीवन मे कर जाते है। पर असल मे आपको वह कभी करनी नही होती हैं। जैसे किसी से झगड़ा। आज हम आपको यह सारी बाते नीचे दिए गए बतव से बातने जा रहे है। जो आपके जीवन मे बुरे समय मैं सोचने के लिए कारगर हो सकते है।

  • खुद से ज्यादा बात करना
  • किसी पर अपने बुरे समय का प्रभाव न होने देना
  • अपनी सोच को अलग रखना
  • अपने बारे मे अच्छा सोचना

बुरे समय में खुद से ज्यादा बात करना :

खुद से ज्यादा बात
खुद से ज्यादा बात

हमेशा देखा गया है, कोई भी इंसान अपने बुरे समय मैं खुद से ज्यादा बात करता हैं। पर यह अच्छा भी है और बुरा भी है। आप अगर कुछ अछि बाते करते हो तो कुछ बुरी बाते भी आपसे हो सकती है।

अपने बुरे समय मैं कुछ भी सोचना जरूरी है। पर सोच ज्यादा तर अपने अच्छे दिनों ओर अच्छी बातों की होना जरूरी है। ताकि आपको अपने बुरे समय मैं खुद को अच्छा साबित करने का मौका मिल जाये।

अपने बुरे समय मैं खुद से कम बात ही करे तो अच्छा होता है। किसी सज्जन से ज्यादा से ज्यादा बात करना अच्छा हो सकता है। ताकि आपको अपने जो भी किया है उसके बारे में सोचना हो। पर सोच बजी अपनी जीवन को सुखी करने की होनी चाहिए।

किसी पर अपने बुरे समय का प्रभाव न होने देना :

अपने बुरे समय का प्रभाव
अपने बुरे समय का प्रभाव

जब भी हम नाराज या बुरे समय का शिकार होते है तो सबसे पहिले हम बुरा बर्ताव करने लगते है। अपने बुरे समय मैं कभी भी किसी पर प्रभाव न होने दे। अपना बुरा समय ही आपको जीवन मे सुखी बना सकता है।

बुरे समय मैं अगर आप खुद पर जीत हासिल करने का हौसला रखते हो तो कमियाबी आपको जरूर मिलने अति है। हर वक़्त देखा गया है कि, बुरे समय मैं इंसान अपने बारे मे गलत सोचने लगता है और अपने परिवार से बुरा वयवहार करने लगता है। पर ऐसा कुछ बजी न करे। बुरे समय मैं कैसे बात करे यही सबसे अच्छा है।

अपनी सोच को कुछ ऐसा बताना जरूरी है जो कभी कोई बुरा काम न करे। ताकि बुरे समय मैं किसी को भी बुरा न लगे। समय तो अपने आप मैं ही एक अलग अनुभव है। जो जीवन को हँसता ओर रुलाता है। पर आप अगर अपने समय को काबू मैं करना च्याहते हो। तो सबसे पहिले खुद के बुरे समय को अपनो आप से दूर करे।

अपनी सोच को अलग रखे :

बुरे समय में अपनी सोच को अलग रखे
बुरे समय में अपनी सोच को अलग रखे

सभी लोग यह बात नही समझते है कि, अपनी सोच को अलग कैसे रखे। हर कोई अपने बुरे समय में खुद के बारे मे गलत सोचने लगता है। अपना सारा समय ऐसी बतव मैं जाया करता है। जो उसे दुख की ओर ले जाता है। पर अगर आप अपने बुरे समय किसी के साथ भी प्यार से बात करते हो तो आपको कभी बुरा समय का प्रभाव नही होंगे।

हमेशा खुशी अपने साथ लेना जरूरी है। खुशी को अपने साथ लेने से कोई भी बात अच्छी होने की संभावना बन जाती है। जब आप खुद को खुश और सुखी रखने की कोशिश करते हो तो आपको आप बुरे समय को खुद से दूर कर सकते हो।

सोच को बदल कर अपने जीवन मे जीना सबसे अच्छा माना जाता है। कोई भी काम करने से पहिले अपने बुरे समय को याद सिर्फ अपने अनुभव के लिए रखे। ओर अपने जीवन मे अच्छी सोच से आगे बड़े।

बुरे समय में अपने बारे मे अच्छा सोचना :

बुरे समय में अपने बारे मे अच्छा सोचना
बुरे समय में अपने बारे मे अच्छा सोचना

हार कोई जानता है अपने बुरे समय में किसी कसे बात करने का मन नही होता है। पर अगर आप किसी से बात नही कर सकते तो। आपको यह कभी नही समझ सकता कि, आप कैसे हो, आपके साथ लोग कैसे रहना पसंद करता है।

यह सारी बाते आपको ध्यान मे रखना जरूरी है। अच्छी सोच ही मनुष्य के जीवन को बुराई से दूर रखती है। और साथ ही साथ मैं अगर आप अच्छी सोच के साथ बुरे दिनों का सामना करते हो। तो आपको किसी भी तरह का नुकसान नही हो सकता।

खुद के विचार इतने उच्च करना जरूरी है कि, खुद भी अपने अतीत के बारे मे बुरे समय को पीछे छोड़ दे। ओर अपने बुरे समय पर जीत हासिल करने के लिए अपने जीवन को तयार करे। ताकि बुरा समय खुद ही अपने आप मैं आपसे दूर हो जाये।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *