क्या है अटल पेंशन योजना?

हेलो दोस्तों आज हम आपको भारत की एक महत्वपूर्ण योजना (अटल पेंशन योजना) के बारे में जानकारी देने वाले हैं। या योजना भारत के सभी नागरिकों के लिए है। जैसा कि इसके नाम में ही पेंशन शब्द जुड़ा हुआ है तो साधारण अंदाजा आ जाता है कि यह योजना रिटायरमेंट के बाद मिलने वाली पेंशन के बारे में हो सकती है। लेकिन यह योजना थोड़ी अलग किसम की है।

अटल पेंशन योजना के फायदे क्या हैं ?
Atal Pension Yojana

इसके लिए आपको यह योजना ध्यानपूर्वक पढ़नी होगी। रिटायरमेंट के बाद मिलने वाली पेंशन और इस योजना के अंतर्गत मिलने वाली पेंशन में कई साम्य और कम कई मतभेद भी हैं। इसलिए आपसे निवेदन है कि यह योजना अंत क जरूर पढ़ें।

इस पेंशन की आवश्यकता किस किसको है?

अटल पेंशन योजना के फायदे क्या हैं ?
Atal Pension Yojana

भारत में पेंशन की आवश्यकता हर एक नागरिक को पड़ती है। इसीलिए वह अपनी कमाई के अनुसार अलग-अलग पेंशन पॉलिसी एलआईसी और अन्य कई स्कीमों के चलते अपनी पेंशन निर्धारित करता है। ताकि उम्र होने पर वह अपने काम से रिटायरमेंट लेकर अपनी जिंदगी खुशहाल और हर एक सुख सुविधा के साथ जी सके।

लेकिन भारत की आम जनता मैं रहने वाले हर एक व्यक्ति को प्राइवेट पेंशन पॉलिसी बहुत महंगी और समझ के बाहर होने के कारण उन्हें इनके बारे में ज्यादा पता नहीं होता। और वह इन पॉलिसी एजेंट के द्वारा बस आए जाते हैं और गुमराह किए जाते हैं और उनका बहुत बड़ा नुकसान होता है।

अपने उम्र भर की कमाई का बड़ा सा हिस्सा लोग इन प्राइवेट पेंशन पॉलिसीओं में लगाते हैं। जिससे निर्धारित की गई उम्र के बाद उन्हें वह प्रतिमाह पैसे मिल सके जिससे वे अपनी जिंदगी सही तरीके से और अपने मन मुताबिक जी सकें। पेंशन मिलने से व्यक्ति को अपने जीवन की यानी कि आने वाले भविष्य के बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं होती उनकी उम्र होने के बाद भी उन्हें पैसे मिल सकते हैं यह पैसे उन्हें पेंशन के स्वरूप में मिलते हैं।

पेंशन का मतलब आपकी निर्धारित उम्र होने के बाद जब आपसे कोई काम ना हो पाए और आप अपने काम से निवृत्त हो जाएं तब आपको आपकी जमा की गई हुई राशि में से ब्याज स्वरूप में हर महीने कुछ पैसे दिए जाते हैं वह पैसे आपकी सैलरी के हिसाब से यानी सैलरी जिससे हर महीने दिए जाते हैं जिससे आप अपने घर का खर्चा चला सके।

पेंशन यानी ऐसे सुरक्षित निधि होती है जो आपको रिटायरमेंट के बाद मिलती है जिससे आप बिना काम किए भी रिटायरमेंट के बाद अपने तनख्वाह के स्वरूप में पेंशन ले सकते हैं।

अटल पेंशन योजना की शुरुआत कब और कैसे हुई?

इस योजना की शुरुआत वित्तीय एवं सामाजिक सर्वेक्षण के अनुसार तत्कालीन पंतप्रधान नरेंद्र मोदी जी ने 9 मई 2015 में इस योजना की घोषणा की थी। योजना सामाजिक सुरक्षा योजना का एक महत्वपूर्ण भाग है। इस योजना का प्रचार और जागृति टेलीविजन न्यूज़पेपर इनके द्वारा की गई थी इस कारण यह योजना भारत के कोने कोने तक पहुंचने में कामयाब हुई।

अटल पेंशन योजना के फायदे क्या हैं ?
Atal Pension Yojana

योजना के कामयाब होने के पीछे इस योजना का उद्देश्य और आम जनता के लिए फायदेमंद साबित होने वाली योजना और लोगों को मिलने वाला पर्याप्त निधि जिसके कारण यह योजना अपने लक्ष्य को प्राप्त करने मैं सफल हुई है। इस योजना की घोषणा करते वक्त तत्कालीन पंतप्रधान श्री नरेंद्र मोदी जी ने अन्य योजनाओं की भी घोषणा उस वक्त की थी।

      • प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना
      • प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना

जैसा कि हम सब जानते हैं की मार्केट में बहुत सारी प्राइवेट बीमा कंपनियां मौजूद होती है जो कि हमें आने वाली दुविधा में आपत्तियों में हमारा साथ देने का वादा करती है आर्थिक रूप से हमें मदद करने का वादा करती है इसके बदले हम उन्हें हर महीना कुछ प्रीमियम के हिसाब से कुछ पैसे उन बीमा कंपनियों को हर महीने देते हैं।

Atal Pension Yojana
Atal Pension Yojana

उसी प्रकार भारत सरकार ने सरकारी बीमा योजना शुरू की है यह योजना जिनकी एक्सीडेंट में मृत्यु हो जाए अथवा वह विकलांग हो जाए वह इस योजना का लाभ ले सकते हैं इस योजना में 18 से 70 की आयु में सभी बैंक बचत खाते में आंशिक या पूर्ण तहा विकलांग लोगों के लिए ₹200000 कवर दिया जाता है और इस बीमा का प्रीमियम ₹12 प्रति ग्राहक इतना कम है।

प्रधान मंत्री जीवन ज्योति बीमा

यह योजना एक जीवन बीमा योजना है जिसमें 18 से 50 आयु की उम्र वाले सभी बैंक खातेदारों को किसी भी कारण से आने वाली आपत्ति एवं मृत्यु के बदले ₹200000 का जीवन बीमा कवर दिया जाता है इस योजना का प्रीमियम ₹330 प्रति वर्ष इतना कम होता है और यह हर साल रिन्यू करना पड़ता है।

Atal Pension Yojana
Atal Pension Yojana

अटल पेंशन योजना यह 18 से 40 आयु के सभी असंगठित क्षेत्रों के व्यक्तियों को पेंशन योजना का लाभ दिया जाता है। इस उम्र के सभी व्यक्तियों को इस योजना का स्वीकार करने के लिए कुछ पैसे भरने पड़ते हैं जो कि उन्हें 60 वर्षों की उम्र में रुपए हजार रुपए 2000 रुपए 4000 रु 5000 इतनी कम से कम पेंशन हर महीने प्राप्त होती है। इस योजना ने 2010 में 2011 में शुरू की गई स्वालंबन योजना की जगह ली है। 31 दिसंबर 2015 से पहले इस योजना को स्वीकार करने वाले व्यक्तियों का 50 % पैसा केंद्र सरकार द्वारा दिया जाता है।

और यह पैसा उन्हें सिर्फ 5 साल तक केंद्र सरकार के द्वारा दिया जाएगा यानी 5 साल तक खर्चा मतलब आधा खर्चा देने वाला प्रीमियम केंद्र सरकार अपने खर्चे से देगी। अटल पेंशन बीमा योजना पंतप्रधान नरेंद्र मोदी जी ने अटल बिहारी वाजपेई जो भारत के पंतप्रधान रहे चुके हैं उनका नाम जोड़कर उनके सम्मान में यह योजना बनाई गई थी। इस योजना की शुरुआत अटल बिहारी वाजपेई ने अपने कार्यकाल में करना चाहिए थी लेकिन कुछ समस्याओं के कारण वह इस योजना को शुरू नहीं कर पाए उनका सपना पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने यह योजना शुरू की गई थी।

इस योजना का लाभ असंगठित क्षेत्रों में रहने वाले व्यक्तियों को अधिक हो सकता है इस योजना का लाभ लेने के लिए अपने-अपने ग्रामीण विभागों में शहरों में या ग्राम पंचायतों में अपना नाम रजिस्टर करके इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। 60 वर्ष आयु होने के बाद प्रतिमाह आपको कुछ पैसे पेंशन के स्वरूप में दिए जाते हैं। इस योजना का लाभ भारत के ४५% लोग अभी तक ले रहे हैं। योजना भारत सरकार असंगठित लोगों का भविष्य उज्जवल और सुख समृद्धि करने के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हुई है।

loading...

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *