स्थिरता निधि योजना – सुधारित कीमत

0
Kisan Samman Nidhi Scheme
Kisan Samman Nidhi Scheme

सुधारित की स्थिरता निधि योजना की महत्वपूर्ण जानकारी

हेलो दोस्तों वेब रफ्तार में आपका स्वागत है आज हम एक महत्वपूर्ण योजना के बारे में को जानकारी देने वाले योजना भारत के महत्वपूर्ण योजनों में से एक है। सुधारित स्थिरता निधि योजना इस योजना के नाम में ही इसके बारे में हमें साधारण से साधारण जानकारी प्राप्त हो जाती है यह योजना भारत सरकार द्वारा दिए गए निधियों पर नियंत्रण और उस पर किए गए के बारे में हमें इसका नाम पढ़कर समझ में आता है लेकिन सच में इस योजना में और कौन-कौन से पहलू है और उनसे भाग है इसके बारे में हमें जानकारी होनी आवश्यक है इसीलिए आज हम आपको इस योजना के बारे बताने वाले हैं। व्यापारी अपने मन अनुसार हर एक वस्तु का दाम निश्चित करते हैं इस पर किसी का रोग नहीं होता और ग्राहक का बहुत बड़ा नुकसान होता है हर जगह पर अलग-अलग कीमत होने के कारण और किसानों को अपना अनाज अपनी वस्तुएं बेचने के लिए व्यापारियों के पास जाना पड़ता है और यह कम कीमत में किसानों से अपना माल खरेदी कर कर ग्राहकों को उच्चतम में भेजते हैं इस वजह से ग्राहकों का और किसानों का बहुत बड़ा नुकसान होता है।

स्थिरता निधि योजना - सुधारित कीमत
स्थिरता निधि योजना – सुधारित कीमत

यह बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकार की समझ में आने के बाद उन्होंने इस मुद्दे पर विशेष ध्यान देना जरूरी समझा इस वजह से उन्होंने योजना निकाली जिस पर रोक लगाई जा सके। साधारण आदमी और किसानों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हुई है इस योजना के अंतर्गत कोई भी व्यापारी अपने मन अनुसार किसी भी वस्तु का दाम निश्चित नहीं कर सकता। द्वारा निर्धारित किए गए कीमत पर ही वह अपनी वस्तु बैठ सकता है या खरीद सकता है सरकार ने निर्धारित किए गए कीमत से ज्यादा पैसा देकर भी वस्तु खरीद कर सकता है। उससे कम कीमत में वह किसानों से या अन्य कई दूसरे व्यापारियों से वस्तु खरीदी कर नहीं सकता क्योंकि इससे भारत की अर्थव्यवस्था पर भी परिणाम होता है और लोगों में एक उदासीनता आ जाती है कि मेहनत कर कर भी हमें अपना मोबदला नहीं मिल पाता तो क्यों हम इसकी खेती करें और भारत की अर्थव्यवस्था और कृषि व्यवस्था पर एक भारी संकट उत्पन्न होता है यह ना हो इसलिए इस योजना पर भारत सरकार ने विशेष रूप से ध्यान दिया और एक योजना तैयार की इसके अनुसार व्यापारी निर्धारित कीमत पर ही वस्तु खरीद सकता है।

 

कैसे हुई शुरवात स्थिरता निधि के सुधारित योजना की ?

चाय कॉफी रब्बर और तंबाकू की खेती करना और देश और  विदेशों में रहने वाले कीमत के घटना और बनना इसका व्यापारियों और किसानों को नुकसान ना हो इस वजह से अप्रैल 2003 में निधि स्थिरता योजना शुरू की गई थी योजना  नियंत्रण और देखभाल करना इस योजना का मुख्य भाग है।

योजना का लाभ लेने के लिए जो उत्पादक चाय कॉफी रबारी तंबाकू की खेती करते हैं उनसे विशेष रूप से फीस ली जाती है यह भी ₹500 तक होती है यानी कि प्रति खेती मतलब प्रति लागवड अनुसार ₹500 किस प्रकार होती है। ऐसी पिक लेकर 71 करोड़ रुपए और भारत सरकार का योगदान 428 करो ऐसे 500 करोड़ निधि तैयार किया जाता है यह निधि की मस्ती अदा निधि नाम से जाना जाता है यानी कि अंतरराष्ट्रीय व्यापार में अगर रुपया गिरा या बड़ा इस योजना के अंतर्गत उपयोग में लाकर किसानों और व्यापारियों का नुकसान कैसे नहीं हो सकता इसके बारे में विचार कर दिया जाता है। योजना का कालावधी 10 साल का होता है मतलब 2013 तक यह योजना शुरू थी बाद में योजना किस प्रकार शुरू की जाए इस पर डॉ पवन सिंह नाम की एक समिति स्थापन की गई थी उसका नाम रंगा चार कार्य कर ऐसा था इस समिति के शिफारस अनुसार चाय कॉफी रब्बर वेल्डोडा इसकी खेती किस प्रकार की जाए और इसके किस प्रकार निर्धारित की जाए इस पर विचार किया गया।

स्थिरता निधि का लाभ किसको होगा और क्या है सुधारित योजना ?

27 मार्च 2015 में 500 कोटी रुपए स्थिरता निधि खड़ी कर कर सुधारना कीमत स्थिरता निधि आयुक्त शुरू किया गया था। चाय कॉफी रब्बर तंबाकू का उत्पादन बढ़ाने के लिए इसमें सूची तैयार की गई थी और इन सूचियों में कांदा बटाटा और दो पिक इस योजना का भाग बने थे यानी कि अब इस योजना में कांदा और बटाटा दोनों ही आते हैं। शुरुआत में यह योजना 3 सालों के लिए शुरू की गई थी यह 3 साल 2014, 2015, 2016, ऐसे थे ।2017 में यह योजना समाप्त हुई। इस योजना का उद्देश्य किसानों से अच्छी कीमत में माल खरेदी करना उसका अच्छे से संचयन करना यानी कि बड़ी मात्रा में अनाज चाय कॉफी तंबाकू कांदा बटाटा जमा करके रखना और जब समय आने पर उनके जरूरत पड़े तो उन्हें बेचने के लिए बाहर निकालना और उसका चयन करना और उनकी देखभाल करना यहां इस योजना में आते हैं और कीमत बढ़ाओ चढ़ाव पर व्यापारियों को और किसानों को नुकसान ना हो इस पर ध्यान रखना यह योजना में आते हैं यह योजना ग्राहक केंद्रित होती है।

स्थिरता निधि योजना - सुधारित कीमत
स्थिरता निधि योजना – सुधारित कीमत

किसी वजह से माल की खरीदी और इसके वितरण में सरकार को नुकसान हुआ तो इन 500 करोड़ में से उसका भरपाई किया जाता है इसलिए इस निधि का महत्व और भी बढ़ जाता है। सरकार को कीमत के बढ़ाओ चढ़ाव पर नुकसान ना हो इसलिए यह निधि जमा किया जाता है इससे सरकार का और किसानों और व्यापारियों का भी बहुत बड़ा फायदा होता है ग्राहक को भी इसका लाभ मिलता है किसान और व्यापारियों का एक विमा जैसा काम करता है यानी कि उनका नुकसान ना हो यह जिम्मेदारी सरकार उठाता है। सरकार ने दिए गए इस योजना के अंतर्गत व्यापारी और ग्राहकों को बड़ा लाभ मिलता है।

जैसा कि हम सब जानते हैं अंतरराष्ट्रीय व्यापार में डॉलर का रुपए में बदलाव होते हुए बहुत कम कीमत मिलती है और चाय कॉफी रब्बर और तंबाकू यह भारत के निर्यात के रूप में बहुत बड़े उत्पादन माने जाते हैं भारत की अर्थव्यवस्था का मुख्य भाग चाय कॉफी रब्बर और तंबाकू होता है। भारत की अर्थव्यवस्था को मिलने वाला नितिन उपजो से ज्यादा होता है इसलिए इन पर ध्यान केंद्रित करना भारत सरकार के लिए महत्वपूर्ण है इस वजह से यह योजना शुरू की गई थी और इस योजना में यह भी ध्यान रखा गया है कि इससे अगर कभी कीमत उतार  से नुकसान हो जाए तो भारत सरकार को इससे नुकसान ना होते हुए संचित निधि में से कुछ पैसा इस्तेमाल कर कर यह सब नुकसान भरकर अर्थव्यवस्था पर कोई अधिक भार ना हो इसलिए यह योजना बनाई गई थी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here